4 November 2013

ख़ूब थी वो मक़्क़ारी ख़ूब ये छलावा है - नवीन

ख़ूब थी वो मक़्क़ारी ख़ूब ये छलावा है
वो भी क्या तमाशा था ये भी क्या तमाशा है

सोचने लगे हैं अब ज़ुल्म के क़बीले भी
ख़ामुशी का ये दरिया और कितना गहरा है

बेबसी को हम साहब कब तलक छुपायेंगे
दिल में जो उबलता है आँख से टपकता है

पास का नहीं दिखता सूझती नहीं राहें
गर यही उजाला है फिर तो ये भी धोखा है

:- नवीन सी. चतुर्वेदी

हज़ज  मुसम्मन अशतर मक्फ़ूफ मक्बूज़ मुखन्नक सालिम
फ़ाएलुन मुफ़ाईलून फ़ाएलुन मुफ़ाईलून

212 1222 212 1222

No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter