30 November 2014

छन्द – सागर त्रिपाठी

छन्द – सागर त्रिपाठी


चाह नहीं दधि-माखन की
तट-तीर कदम्ब की डार न चाहूँ

स्वाति की बूँद से तुष्टि मुझे
शिव-भाल से गङ्ग की धार न चाहूँ

पेट की भूख को अन्न मिले
धन का मैं अपार बखार न चाहूँ

पाँव पखारि सकूँ हरि के
बड़ दूजो कोऊ उपकार न चाहूँ
मत्त-गयन्द सवैया
सात भगण + दो गुरू 



सखियों से खेल हारी कर अठखेल हारी
दिल से कन्हाई की मिताई नहीं जायेगी

मन है अधीर ऐसे मीन बिनु नीर जैसे
बात, बैरी-जग को बताई नहीं जायेगी

कहने को लाख कहे, साँवरा जो हाथ गहे
राधा से कलाई तो छुड़ाई नहीं जायेगी

अधरों की लाली राधा तुम ने छुपा ली माना
रङ्गत कपोलों की छिपाई नहीं जायेगी
घनाक्षरी छन्द 
8, 8, 8, 7 वर्ण

No comments:

Post a Comment

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।