6 August 2016

सितमगर की ख़मोशी को भले जुल्मो-सितम कहना - नवीन

सितमगर की ख़मोशी को भले जुल्मो-सितम कहना
पर उस की मुस्कुराहट को तो लाज़िम है करम कहना
मुहब्बत के फ़रिश्ते अब तो इस दिल पर इनायत कर
लबों को आ गया है ख़ुश्क-आँखों को भी नम कहना
हमें तनहाई के आलम में अक्सर याद आता है
किसी का ‘अल्ला-हाफ़िज़’ कहते-कहते ‘बेsssशरम’ कहना
हमें गूँगा न समझें हम तो बस इस वासते चुप हैं
सभी के हक़ में है असली फ़साना कम से कम कहना
सनातन काल से जिस बात का डर था – हुआ वो ही
बिल-आख़िर बन गया फ़ैशन दरारों को धरम कहना
अक़ीदत के सिवा शाइस्तगी भी चाहिये साहब
कोई फ़ोर्मेलिटी थोड़े है ‘वन्दे-मातरम’ कहना
अगरचे मान्यवर कहने से कुछ इज़्ज़त नहीं घटती
मगर हम चाहते हैं आप हम को मुहतरम कहना
नवीन सी चतुर्वेदी

बहरे हज़ज मुसम्मन सालिम
मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन
1222 1222 1222 1222


No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter