31 August 2011

दुष्यंत कुमार को समर्पित एक ग़ज़ल - फ़िज़ा के रंग में शामिल है ख़ुशबू-ए-दुष्यंत - नवीन

दुष्यन्त कुमार
१ सितम्बर यानि दुष्यंत कुमार की जन्म तिथिजैसे हम लोग फिल्मी गीत सुनते हैं पर अक्सर उस गीत के गीतकार का नाम हमें याद नहीं होता| मेरे द्वारा दुष्यंत कुमार का फेन होना भी कुछ ऐसा ही है| कहीं सुनी / पढ़ी पंक्तियाँ दिमाग़ में दर्ज़ हो कर रह गईं और कालांतर में पता चला कि ये पंक्तियाँ भारतीय जन मानस के अन्तर्मन में स्थायी निवास पा चुके मशहूर कवि / शायर दुष्यंत कुमार की हैं|  दुष्यंत कुमार को समर्पित एक ग़ज़ल :- 

ख़ुसूसो-ख़ास नगीनों में कोहेनूर थे आप।
दिलोदिमाग़ प तारी अजब सुरूर थे आप॥

विशिष्ट-दौर की पहिचान बन गये ख़ुद ही।
न मीर, जोश न तुलसी, कबीर, सूर थे आप॥

तमाम ज़हनों के नज़दीक आप हैं अब तक।
तो क्या हुआ कि ज़रा क़ायदों से दूर थे आप॥

जिसे जो कहना हो कहता रहे, उबलता रहे।
हमें तो लगता नहीं है कि बे-शऊर थे आप॥

फ़िज़ा के रंग में शामिल है ख़ुशबू-ए-दुष्यंत|
ज़हेनसीब, हमारे फ़लक का नूर थे आप॥


पुराना काम

 सलीक़ेदार कहन के नशे में चूर था वो|
दिलोदिमाग़ पे तारी अजब सुरूर था वो|१|

वो एक दौर की पहिचान बन गया खुद ही|
न मीर, जोश न तुलसी, कबीर, सूर था वो|२|

तमाम लोगों ने अपने क़रीब पाया उसे|
तो क्या हुआ कि ज़रा क़ायदों से दूर था वो|३|

लबेख़मोश की ताक़त का इल्म था उस को|
कोई न बोल सका यूं कि बे-श'ऊर था वो|४|

फ़िज़ा के रंग में शामिल है ख़ुशबू-ए-दुष्यंत|
ज़हेनसीब, हमारे फ़लक का नूर था वो|५|


मुफ़ाएलुन फ़एलातुन मुफ़ाएलुन फालुन
1212 1122 1212 22 
बहरे मुजतस मुसमन मखबून महजूफ 



दुष्यंत कुमार को ले कर कुछ और बातें अगली पोस्ट में जारी ....................................... 

23 comments:

  1. कविता,ग़ज़ल में क्रांति के स्वर के प्रतीक थे कवि दुष्यंत... इस ग़ज़ल से उन्हें याद करना अच्छा लगा...बढ़िया ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  2. तमाम लोगों ने अपने क़रीब पाया उसे|
    तो क्या हुआ कि ज़रा क़ायदों से दूर था वो|३|
    यह है असली शेर बहुत खूब ..

    ReplyDelete
  3. अक्सर मैं एक मसल को याद करता रहता हूँ -
    लीक-लीक कायर चलें, लीकहिं चले कपूत
    लीक छोड़ तीनों चलें - शायर सिंह सपूत


    दुष्यंत कुमार इस भारत के शायर, सिंह और सपूत तीनों थे. अपने नमन के समानान्तर कृपया मुझे भी नत देखें.

    --सौरभ पाण्डेय, नैनी, इलाहाबाद (उ.प्र.)

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी लगी यह गज़ल |
    आशा

    ReplyDelete
  5. आभार प्रस्तुत करने का..आनन्द आ गया!!

    ReplyDelete
  6. तमाम लोगों ने अपने क़रीब पाया उसे|
    तो क्या हुआ कि ज़रा क़ायदों से दूर था वो|३|
    sunder bhav puri gazal hi sunder pr ye shel kamal hai
    rachana

    ReplyDelete
  7. लबेख़मोश की ताक़त का इल्म था उस को|
    कोई न बोल सका यूं कि बे-श'ऊर था वो|४|

    फ़िज़ा के रंग में शामिल है ख़ुशबू-ए-दुष्यंत|
    ज़हेनसीब, हमारे फ़लक का नूर था वो|५|
    उनसे हमने भी खूब उठाया है ,कमाया है .........
    गज़ब है सच को सच कहते नहीं हैं ,
    सियासत के कई चोले हुएँ हैं -
    इन मुखोटों की बखिया "साए में धूप "ने उधेडी थी ....अब सिर्फ अन्ना हैं ,एक अन्ना हिन्दुस्तान है ,
    बाकी सब राजनीति के काग भगोड़े हैं ....
    बुधवार, ३१ अगस्त २०११
    जब पड़ी फटकार ,करने लगे अन्ना अन्ना पुकार ....
    ईद और गणेश चतुर्थी की हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  8. तमाम लोगों ने अपने क़रीब पाया उसे|
    तो क्या हुआ कि ज़रा क़ायदों से दूर था वो|३|

    बेहतरीन रचना।

    ReplyDelete
  9. इस ग़ज़ल के माध्यम से आपने स्व. दुष्यंत कुमार जी के कृतित्व को सार्थक कर दिया. ग़ज़लों को भाषाई बंधन से मुक्त करने में दुष्यंत जी का योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता.

    ReplyDelete
  10. Waah...Mere pasandiida Shayar ko is se behtar yaad karne ka aur koi tariika nahin ho sakta...Bejod Ghazal hai aapki Naviin Bhai...Behtraiin...Dushyant ji ke saath aapne sahi insaaf kiya hai.

    Neeraj

    ReplyDelete
  11. NAVEEN JI , DUSHYANT KE PRATI AAPKAA SAMARPAN-
    BHAAV SAB KAA HEE SAMARPAN-BHAAV HAI . AAPKA
    UNKE PRATI HAR SHER ACHCHHA LAGAA HAI .

    ReplyDelete
  12. ग़ज़ल के माध्यम से
    ग़ज़ल के पैरोकार दुष्यंत को याद करने
    और करवाने के लिए
    आभार स्वीकार करें .
    आपकी रचना कुशलता की प्रशंसा के लिए
    कोई भी शब्द
    छोटा पड़ने लगता है ....

    मुबारकबाद .

    ReplyDelete
  13. वाह साह्ब! दुष्यंत जी को जीवंत कर दिया आपके कलाम ने! वाह!

    ReplyDelete
  14. सुन्दर गज़ल भाई दुष्यन्त तो हमारे जेहन में हमेशा रहेंगे आभार

    ReplyDelete
  15. ग़ज़लों को भाषाई बंधन से मुक्त करने में दुष्यंत जी का और इस ग़ज़ल के माध्यम से मात्राओं की चौधराई से मुक्त करने में नवीन जी का योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता.

    शत् शत् नमन

    ReplyDelete
  16. स्‍वर्गीय दुष्‍यन्‍त की ग़ज़लों की याद आपने ताज़ा कर दी। अफ़सोस कि मुझे तो उनका जन्‍मदिन भी ज्ञात नहीं था।
    बहरहाल एक स्‍मरण-पुष्‍प मेरी ओर से भी:
    बहुत चुभता था ऑंखों में अधिकतर हुक्‍मरानों की
    ग़ज़लगोई की दुनिया में मगर मशहूर था वो।

    ReplyDelete
  17. Bahut khoob Gazal ! Dushyant jaise shayar ko yaad karne ka upyukt tarika laga hai ye !

    Aapko badhai !!

    ReplyDelete
  18. एक उम्दा ग़ज़ल गो को याद करने का एक खुबसूरत ग़ज़ल से अच्छा जरिया क्या हो सकता है...
    सादर बधाई इस सुन्दर ग़ज़ल के लिए...
    दुष्यंत कुमार त्यागी जी को सादर नमन.

    ReplyDelete
  19. दुष्यंत कुमार ने ग़ज़ल को एक नया आयाम दिया।
    उनके शेर तो मुहावरे जैसे उद्धरित किए जाते हैं।
    इस ग़ज़ल ने उनकी क्रांतिकारी शख्सियत की याद दिला दी।
    बहुत-बहुत शुक्रिया, इस प्रस्तुति के लिए।

    ReplyDelete
  20. बहुत अच्छी लगी यह गज़ल |

    ReplyDelete
  21. बहुत ही बढ़िया...

    ReplyDelete
  22. बहुत ख़ूबसूरत गज़ल...

    ReplyDelete