17 March 2011

होली - धर्मयुग - १९७५ - दुष्यंत कुमार और धर्मवीर भारती जी के बीच का ग़जलिया पत्राचार

सभी साहित्य रसिकों का पुन: सादर अभिवादन और होली की अग्रिम शुभकामनाएँ

===============================

दुष्यंत जी के लिए समर्पित मेरा एक शेर:-

ज़हेनसीब हमारे फ़लक का नूर था वो||
[पूरी ग़ज़ल पढ़ने के लिये शेर पर क्लिक करें]
===============================



माहौल अब होली मय हो चुका है हर जगह| तो आइए हम भी कुछ होली की ठिठोली टाइप बात आप से साझा करते हैं| ये बात उन दिनों की है जब पत्राचार भी ग़ज़ल के माध्यम से होता था| तत्कालीन धर्मयुग संपादक श्री धर्मवीर भारती जी को दुष्यंत कुमार जी ने क्या लिखा और फिर धर्मवीर जी ने उस का उसी अंदाज में क्या जवाब भिजवाया, आप खुद देखिएगा:-

दुष्यंत कुमार टू धर्मयुग संपादक

पत्थर नहीं हैं आप तो पसीजिए हुज़ूर|
संपादकी का हक़ तो अदा कीजिए हुज़ूर|१|

अब ज़िन्दगी के साथ ज़माना बदल गया|
पारिश्रमिक भी थोड़ा बदल दीजिए हुज़ूर|२|

कल मैक़दे में चेक दिखाया था आपका|
वे हँस के बोले इससे ज़हर पीजिए हुज़ूर|३|

शायर को सौ रुपए तो मिलें जब गज़ल छपे|
हम ज़िन्दा रहें ऐसी जुगत कीजिए हुज़ूर|४|

लो हक़ की बात की तो उखड़ने लगे हैं आप|
शी! होंठ सिल के बैठ गये ,लीजिए हुजूर|५|


धर्मयुग सम्पादक टू दुष्यंत कुमार
[धर्म वीर भारती का उत्तर बकलम दुष्यंत कुमार्]


जब आपका गज़ल में हमें ख़त मिला हुज़ूर|
पढ़ते ही यक-ब-यक ये कलेजा हिला हुज़ूर|१|

ये "धर्मयुग" हमारा नहीं सबका पत्र है|
हम घर के आदमी हैं हमीं से गिला हुज़ूर|२|

भोपाल इतना महँगा शहर तो नहीं कोई|
महँगी का बाँधते हैं हवा में किला हुज़ूर|३|

पारिश्रमिक का क्या है बढा देंगे एक दिन|
पर तर्क आपका है बहुत पिलपिला हुज़ूर|४|

शायर को भूख ने ही किया है यहाँ अज़ीम|
हम तो जमा रहे थे यही सिलसिला हुज़ूर|५|



[ये दोनों ही गज़लें धर्मयुग के होली अंक 1975 में प्रकाशित हुयी थीं।]
:- साभार भाई श्री वीरेन्द्र जैन जी के ब्लॉग से

22 comments:

  1. वाह! भाईसाब इतना मजेदार पत्राचार पढवाने के लिए आपका बहुत शुक्रिया | बहुत मज़ा आया इमान से !!!!!!!!!

    ReplyDelete
  2. बहुत मनोरंजक पत्राचार पढवाने के लिये धन्यवाद..होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  3. बहुत मनोरंजक पत्राचार पढवाने के लिये धन्यवाद..होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  4. साहित्य में अमर होने के लिए मरना क्यों जरूरी होता है? दुष्यंत कुमार को जीते जी कितना नकारा गया और आज..... उनका अनुसरण हो रहा है. काश!! हमारा साहित्यिक समाज और तथाकथित पहरुए आज भी इस बात को समझ जाते.
    इस पत्राचार को हम सब तक पहुचाने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद नवीन भाई.

    ReplyDelete
  5. मज़ेदार वाकया है।
    उस्‍तादाना वार्तालाप।

    ReplyDelete
  6. गजब का वार्तालाप.....पढवाने के लिए आपका बहुत शुक्रिया ...

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी चीज प्रस्तुत की आपने| इतनी बढ़िया चीजें इतनी आसानी से कहाँ उपलब्ध हो पाती है, धन्यवाद सर|

    ReplyDelete
  8. नवीन भाई आपने उन दिनों की याद ताज़ा करा दी जो समुच्चय में मेरे लिये ’गुरु-दिन’ सदृश हैं.. और उसपर से ’धर्मयुग’ जिसका मेरे जीवन पर गहरा प्रभाव हुआ है.
    रामरिख मनहर, शैल चतुर्वेदी जैसे तमाम नाम तो थे ही जिन्हें धर्मयुग ने हास्य के अखाड़े में स्थापित किया हुआ था.. अज्ञेय, भवानीभाई, नईम, कैलाश गौतम, कैलाश सेंगर, इलाचंद्रजी, शरदजोशी जैसे लोग थे जो अपने-अपने क्षेत्र के उस्ताद हुआ करते थे.. या, यों कहें हर क्षेत्र और ’डोमेन’ की विभूतियों का अपना हुआ करता था ’धर्मयुग’. जैसे कि, यशपाल सदृश वैज्ञानिक विद्वान हों या नार्लिकर जैसे खालिस गणितज्ञ.. सबका अपना था धर्मयुग.मैं अवश्य बालपन से किशोरावस्था में प्रवेश कर रहा था किन्तु दृष्टि को सजग करने में भारतीजी का अमूल्य योगदान था मेरे जीवन में.. मैं इस माअने में ’एकलव्य’ हूँ जिसका ’द्रोण’ ने कभी ’अँगूठा’ नहीं लिया..

    ReplyDelete
  9. भाई नवीन जी देर से ही इस पोस्ट को पढा लेकिन आपने नायब गज़ल खोज निकला |खैर भारती जी और दुष्यन्त दोनों अद्भुत कवि थे ,ऐसे कवि दशकों बाद भी नहीं मिलते हैं |

    ReplyDelete
  10. बहुत मनोरंजक पत्राचार पढवाने के लिये धन्यवाद..होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  11. नविनजी, आपकी यह रचना पढ मै ३५ साल पहले के जिवन मे पहुच गया. दरअसल धर्मयुग मेरी उस समय की पसन्दिदा पत्रिका थी. सन १९७५ मे स्कुल मे थे. सो भोजन के समय ग्रंत्रालय मे जा यह पत्रिका पढते थे. बाद मे तो बंद ही हो गयी.आपके पास यह पत्रिका संजोयी है?

    ReplyDelete
  12. naveen bhai ,

    itni acchi rachna ke liye dil se badhayi .
    dono patr padhkar man shaant ho gaya , kuch is tarh ki baate bhi hoti rahni chahiye ..

    badhayi

    मेरी नयी कविता " परायो के घर " पर आप का स्वागत है .
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/04/blog-post_24.html

    ReplyDelete
  13. kya kahte ham kya sunte ham, ham to gunge hain bahre hain
    aur hamaare ujle sapne kal the jahan vahin thahre hain.
    do bade logon ke beech me kya kahen? aise samvaad mere bhi nandan ji se aur udai prataap singh ji se hote rahe hain. padh kar aanand aaya. badhaai aise prasang dalne ke liye.

    ReplyDelete
  14. बहुत ख़ूब!!! हाज़िरजवाबी से परिपूर्ण! हम तक इन दोनों ही रचनाओं को लाने के लिए धन्यवाद..

    ReplyDelete
  15. मनोरंजक..धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. आप सभी साहित्य रसिकों ने इस दुर्लभ पत्राचार को पढ़ कर स्वयं तो रसास्वादन किया ही, मेरे आनंद में भी अभेवृद्धि कर दी|

    इस ब्लॉग पर में कुछ अलग हट के वाली बातें ही बतियाना चाहता था शुरू से| आगे भी यही प्रयास रहेगा|

    ReplyDelete
  17. कृपया मेरे ब्लॉग पर आयें http://madanaryancom.blogspot.com/

    ReplyDelete
  18. बहुत मनोरंजक पत्राचार पढवाने के लिये धन्यवाद.
    बहुत पुरानी रचना है ये इसको सामने लाने के लिए आप बधाई के पात्र हैं !!

    ReplyDelete
  19. नवीन जी कमाल कर दिया आपने....यह खोज बहुत महत्वपूरण है..उस समय की बात आज भी सच है.....सच यह समस्या आज भी विकराल है.....!..शायर को सौ रुपए तो मिलें जब गज़ल छपे|
    हम ज़िन्दा रहें ऐसी जुगत कीजिए हुज़ूर...!

    ReplyDelete