9 September 2013

फूल जहाँ रखता है; काँटे भी रखता ही है - नवीन

फूल जहाँ रखता है; काँटे भी रखता ही है
शायद ऊपर वाला भी अपने जैसा ही है

आख़िर कब तक सच बोलें और बैर बढाएँ हम
आईनों को एक दिन शीशा बन जाना ही है

स्वाद हवा का चखते ही दिल झूम उठा साहब
माँ के हाथ के शरबत में जादू होता ही है

आप हमारी सज्जनता पे इतना मत रीझें
बाबू जी हम झरनों को गिर कर बहना ही है

हम ने मज़बूरी में भेड़ों की सुहबत की थी
वरना शेरों की आदत तो मर्दाना ही है

आज की दुनिया को अन्धेर पसन्द है क्या कीजे
धुन्ध भरे इस्कूलों का धन्धा बढना ही है

क़िस्मत पर सुहबत का साया पड़ता ही है 'नवीन'
गेंहू की सुहबत में रह कर घुन पिसता ही है




No comments:

Post a Comment

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।

My Bread and Butter