28 May 2013

समझ में आते हैं कुछ इन्क़लाब आहिस्ता-आहिस्ता- नवीन


मुहतरम अमीर मीनाई साहब की ज़मीन सरकती जाये है रूख़ से नक़ाब आहिस्ता-आहिस्ता” पर एक कोशिश


समझ में आते हैं कुछ इन्क़लाब आहिस्ता-आहिस्ता
करें भी क्या कि खुलते हैं सराब आहिस्ता-आहिस्ता 
सराब - मृगतृष्णा

हमारी कोशिशों को ये जहाँ समझा न समझेगा
हमें होना था यारो क़ामयाब आहिस्ता-आहिस्ता

समय थमता नहीं है और बदन भी थक रहा है कुछ
बिखरते जा रहे हैं सारे ख़्वाब आहिस्ता-आहिस्ता

वही बज़्मेंवही रस्मेंवही ताक़तवही गुर्बत
उभरते जा रहे हैं फिर नवाब आहिस्ता-आहिस्ता
बज़्म - महफ़िलगुर्बत - ग़रीबी

किसी बेशर्म से मिन्नत नहीं सख़्ती से पेश आओ
ज़ुबाँ टपकायेगी सारे ज़वाब आहिस्ता-आहिस्ता

:- नवीन सी. चतुर्वेदी

बहरे हजज मुसम्मन सालिम
मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन

1222 1222 1222 1222 

5 comments:

  1. हमारी कोशिशों को ये जहाँ समझा न समझेगा
    हमें होना था यारो कामयाब आहिस्ता-आहिस्ता

    सच में

    ReplyDelete
  2. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 29/05/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब! लाजवाब कोशिश मैं तो बिलकुल समझ गया :)

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  4. हमारी कोशिशों को ये जहाँ समझा न समझेगा
    हमें होना था यारो कामयाब आहिस्ता-आहिस्ता ..

    कामयाबी आहिस्ता ही मिलती है ...
    बहुत ही लाजवाब शेर है नवीन भई ... गज़ल का हर शेर काबिले तारीफ़ है ....

    ReplyDelete
  5. सुन्दर और सार्थक

    ReplyDelete