30 March 2013

हमने गर हुस्न और ख़ुशबू ही को तोला होता - नवीन

हमने गर हुस्न और ख़ुशबू ही को तोला होता
फिर तो हर पेड़ गुलाबों से भी हल्का होता

रब किसी शय में उतर कर ही मदद करता है
काश मैं भी किसी रहमत का ज़रीया होता
रहमत - ईश्वरीय कृपा,ज़रीया - माध्यम 

वक़्त अकेला था, मेरी नाक में कुनबे की नकेल
कम नहीं पड़ता अगर मैं भी अकेला होता

सारे ख़त उस ने कलेज़े से लगा रक्खे हैं
ये किया होता अगर मैंने - तमाशा होता

आप को आग में बस आग ही दिखती है ‘नवीन’
ये न होती तो भला कैसे उजाला होता



फाएलातुन फ़एलातुन फ़एलातुन फालुन
बहरे रमल मुसम्मन मखबून मुसक्कन
2122 1122 1122 22

10 comments:

  1. रब किसी शय में उतर कर ही मदद करता है
    काश मैं भी किसी रहमत का ज़रीया होता

    ्बहुत सुन्दर ख्याल

    ReplyDelete
  2. सारे ख़त उस ने कलेज़े से लगा रक्खे हैं
    ये किया होता अगर मैंने - तमाशा होता

    आप को आग में बस आग ही दिखती है ‘नवीन’
    ये न होती तो भला कैसे उजाला होता


    बहुत खूब नवीन भाईजी. ..
    पहले शेर को तो आपने पोस्टर-कोट ही कर रखा है, उस पर कुछ कहना क्या. वह उस लायक है भी.
    इस ग़ज़ल के लिए बहुत-बहुत बधाई.

    ReplyDelete

  3. कल दिनांक 31/03/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (31-03-2013) के चर्चा मंच 1200 पर भी होगी. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  5. बड़े नाजुक ख्याल को लिपिबद्ध किया है

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब नवीन जी ... हर शेर पे वाह वाह निकलती है ...

    ReplyDelete
  7. वक़्त अकेला था, मेरी नाक में कुनबे की नकेल
    कम नहीं पड़ता अगर मैं भी अकेला होता

    ....लाज़वाब! बहुत उम्दा ग़ज़ल..सभी शेर दिल को छू जाते हैं...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति!!
    पधारें कैसे खेलूं तुम बिन होली पिया...

    ReplyDelete
  9. सारे ख़त उस ने कलेज़े से लगा रक्खे हैं
    ये किया होता अगर मैंने - तमाशा होता
    बहुत सुन्दर ग़ज़ल .....नवीनजी .बकौल एक शायर अर्ज करना चाहूँगा

    मेरी भी तो मुफलिसी देखो जरा नज़र से यारों
    अब भी है उनकी याद को दिल में बसाये रखा.

    ReplyDelete

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।