24 January 2013

चन्द अशआर - अमीर कज़लबाश

मेरे साये में सब हैं मेरे सिवा
कोई तो मेरी सायबानी  करे

मुझको अक्सर ये हुआ है महसूस
कोई कुछ पूछ रहा हो जैसे

हो रहा है अगर जुदा मुझसे
मेरी आँखों पे उँगलियाँ रख जा

फल दरख़्तों से तोड़ लो ख़ुद ही
जाने कब आयें आँधियाँ यारो

बड़ा बेशक़ीमत है सच बोलना

मेरे सर पे लाखों का इनआम है

अगर रहगुज़र ये नहीं है तो फिर
यहाँ इन दरख़्तों का क्या काम है

वो सिरफिरी हवा थी सँभलना पड़ा मुझे
मैं आख़िरी चिराग़ था जलना पड़ा मुझे

मुझमें किस दरजा पुरानापन है

तुझको छू लूँ तो नया हो जाऊँ

मैं पहली बार उस से सच कहूँगा
ख़ुदा जाने उसे कैसा लगेगा

खौफ़ तनहाई घुटन सन्नाटा
क्या नहीं मुझमें जो बाहर देखूँ

क्या ख़रीदोगे चार आने में
अक़्लमंदी है घर न जाने में

तबसरा कर रहे हैं दुनिया पर
चन्द बच्चे शराबखाने में

उस के घर में तो ख़ुद अँधेरा है
वो किसी को चिराग़ क्या देगा 

:- अमीर कज़लबाश

[लफ़्ज़ से साभार]

5 comments:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 30/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. सुंदर प्रस्तुति.

    ६४ वें गणतंत्र दिवस पर शुभकानाएं और बधाइयाँ.

    ReplyDelete
  3. उम्दा प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत बधाई...६४वें गणतंत्र दिवस पर शुभकामनाएं...

    ReplyDelete

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।