27 November 2011

हरिगीतिका - समापन पोस्ट - रसधार छंदों की बहा दें, बस यही अनुरोध है

सभी साहित्य रसिकों का सादर अभिवादन 


2 अक्तूबर २०११ को शुरू हुआ यह हरिगीतिका वाला आयोजन आज पूर्णता को प्राप्त हो रहा है। इस आयोजन में अब तक हम १४ रचनाधर्मियों के ७५ हरिगीतिका छंद पढ़ चुके हैं, जो कि इस पोस्ट के साथ हो जाएँगे १५ - ७८। आइये पहले पढ़ते हैं अम्बरीष भाई के छंद :-

26 November 2011

क्यूँ हुई बच्चों से नादानी न पूछ - नवीन

मुश्किलें मत पूछ, आसानी न पूछ।
है बड़ा, तो बात बचकानी न पूछ ।१।

याद कर अपने लड़कपन के भी दिन।
  क्यूँ हुई बच्चों से नादानी न पूछ।२।


भेड़िया क्या जाने इंसानी रिवाज़|
धूर्त से तहज़ीब के मानी न पूछ।३।

जो मुक़द्दर ने दिया कर ले कुबूल।
कर्ण! कुंती की परेशानी न पूछ ।४।

था फ़िदा जिस पर गुलाबों का मुरीद।
कौन थी वो श़क्ल नूरानी न पूछ।५।

बोलना आता तो क्यूँ होता हलाल।
बेज़ुबाँ से वज़्हेक़ुरबानी न पूछ।६।

रोशनी से गर तुझे परहेज़ है|
फिर सरंजामेनिगहबानी न पूछ।७।

मछलियों के हक़ में बगुलों की जमात।
किस कदर है सबको हैरानी न पूछ।८।

हाथ कंगन आरसी मौज़ूद है।
अब तो कोई बात बेमानी न पूछ।९।


बहरे रमल मुसद्दस महजूफ
फाएलातुन फाएलातुन फाएलुन
२१२२ २१२२ २१२

24 November 2011

निष्काम कर्मयोग की प्रासंगिकता –गीता - मयंक अवस्थी

गीता मनोविज्ञान की पहली (और अंतिम भी) पुस्तक है। यह मनुष्य के  रुग्ण जीवन के लिये वरदान स्वरूप दी गयी विचार-चिकित्सा प्रणाली है । इसका उदगम महाकाव्य महाभारत है । 

सम्पूर्ण भारत-भक्ति में ही, सत्य-सार्थक मुक्ति है

सभी साहित्य रसिकों का सादर अभिवादन

इस आयोजन की सेकंड लास्ट ये आज की पोस्ट एक विशेष पोस्ट है। मंच के वरिष्ठ मार्गदर्शक आचार्य सलिल जी के परामर्श बल्कि उन की आज्ञा के अनुसार ही उन के छंद और उन छंदों पर सुधार वाले सुझाव दोनों एक साथ प्रस्तुत किए जा रहे हैं। सलिल जी का मानना है कि इस से छंदों से प्रेम करने वाले लोगों को बहुत सहायता मिलेगी। पाठकों से भी निवेदन है कि वे अपनी स्पष्ट राय इन छंदों पर रखने की कृपा करें।

19 November 2011

निज लक्ष्य जब तक सिद्ध ना हों, बेधड़क बढ़ते रहें

सभी साहित्य रसिकों का सादर अभिवादन


हरिगीतिका छंद आधारित आयोजन के अगले चक्र में आज हम पढ़ते हैं आ. बृजेश त्रिपाठी जी को। बृजेश जी मंच से पहले से जुड़े हुए हैं और हम पिछले आयोजनों में इन की कुण्डलिया और घनाक्षरियाँ पढ़ भी चुके हैं।

15 November 2011

चायनीज बनते नहीं, चायनीज जब खायँ

चायनीज बनते नहीं, चायनीज जब खायँ।
फिर इंगलिश के मोह में, क्यूँ फ़िरंग बन जायँ।१।
क्यूँ छोडें पहिचान को, रहे छाँव या धूप।
अपने रँग में रँग रहे, उस का रंग अनूप।२।

13 November 2011

इक शाम सरयू में स्वयं को, होम करना है तुझे

सभी साहित्य रसिकों का सादर अभिवादन

आयोजन जैसे जैसे आगे बढ़ रहा है एक से एक उत्कृष्ट रचनाएँ भी सामने आ रही हैं। 2 अक्तूबर को शुरू हुआ यह आयोजन अब अपने उत्तरार्ध में प्रवेश कर चुका है।

आज की पोस्ट में हम पढ़ेंगे मयंक अवस्थी जी के हरिगीतिका छंद। लय का निर्वाह, छंद विधान का पूर्णरूपेण अनुपालन और सहज सम्प्रेषणीयता तो है ही, पर इन सब के अलावा जो ताज़गी उभारी है मयंक भाई ने, वो विशिष्ट है। आइये पढ़ते हैं इन छंदों को, धारा प्रवाह के साथ................

10 November 2011

हम ग़ज़ल कहते नहीं आत्मदाह करते हैं - डा. विष्णु विराट

डा. विष्णु विराट
लगभग साठ ग्रंथ प्रकाशित, राष्ट्रीय काव्य मंच से संलग्न,
नवगीत के प्रतिनिधि हस्ताक्षर,
निदेशक - गुजरात हिंदी प्रचारिणी सभा,
अध्यक्ष - हिंदी विभाग, म. स. विश्वविद्यालय, बडौदा 

=======

लोग  सुनते  हैं  और  वाह  वाह  करते  हैं।
इससे  लेकिन  दिलों  के  ज़ख्म  कहाँ  भरते  है।
हाथ रखिये  ज़रा  चलते  हुए  शब्दों  पे  'विराट'।
 हम  ग़ज़ल  कहते  नहीं  आत्मदाह  करते  हैं।।

9 November 2011

संतोष का सुख तो हमेशा, झोंपड़ों को ही मिला

सभी साहित्य रसिकों का सादर अभिवादन 


देखते ही  देखते १० कवियों के ५३ हरिगीतिका छंद पढ़ चुके हम अब तक। इस में सिद्धहस्त रचनाकार भी हैं और नौसिखिये भी। जीवन में पहली बार जिन्होंने हरिगीतिका छंद लिखे हैं, मंच उन का विशेष आभार व्यक्त करता है। इस आयोजन में हमने आध्यात्म - हास्य और शृंगार विषयक स्पेशल पोस्ट पढ़ीं, अब उसी क्रम में आज तिवारी जी भी एक स्पेशल पोस्ट ले कर आए हैं। घर कुटुम्ब की बातें हम सब जानते हैं, बतियाते भी हैं, परन्तु - अरे ये तो होता ही है इस में खास क्या - कह कर उन बातों को दरकिनार कर के साहित्य से दूर रखते हैं। जिन बातों की वज़ह से माहौल सतत प्रभावित होता रहता हो वो हल्की फुलकी बातें न हो कर बेहद गम्भीर बातें होती हैं और उन्हें निरंतर साहित्य में आते रहना चाहिए। शेषधर तिवारी जी ने इन बातों को केंद्र में रख कर अपने छंद भेजे हैं| विशेष बात ये कि 'अनुरोध', 'कसौटी' या 'त्यौहार' शब्द या कि उन के पर्यायवाची लिए बिना भी, छंद, इन शब्दों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।पहले हमने सोचा कि यह घोषणा के अनुरूप है या नहीं, फिर सोचा इस को पाठक माई-बाप की अदालत में पेश कर के देखते हैं। मंच के अनुसार यह एक सुन्दर प्रयोग है।

6 November 2011

हुस्न वाले तो छा गये हर सू - नवीन

थे अँधेरे बहुत घने हर सू|
हमने दीपक जला दिए हर सू|१|

मोर से नाचने लगे हर सू|
ज़िक्र जब आप के हुए हर सू |२|

सारी दुनिया पे राज है इनका|
हुस्न वाले तो छा गए हर सू |३|

पर्व से पूर्व मिल गया बोनस |
दीप खुशियों के जल उठे हर सू |४|

इस ज़मीं पर ही एक युग पहले|
आदमी थे उसूल के हर सू|५|

हर तरफ नफरतों का डेरा है|
अब मुहब्बत ही चाहिए हर सू|६|

यार माली बदल गया है क्या|
तब चमन में  गुलाब थे हर सू|७|

उस को देखा तो यूं लगा मुझको|
तार वीणा के बज उठे हर सू।८।

लोग कितने उदास हैं या रब|
कुछ तो खुशियाँ बिखेर दे हर सू|९|

===============================

कह रहे हैं मुशायरे हर सू|
अम्न की जोत जल उठे हर सू|१|

थे जो खारिज मुआमले कल तक|
रस्म-क़ानून बन गए हर सू|२|

आज इंसान, ख़्वाहिशें, पानी|
बेतहाशा उबल रहे हर सू|३|

कुछ नयी बात ही न मिल पायी|
काफ़िए तो तमाम थे हर सू|४|

है खबर, गाँव को मिलेगी नहर|
दीप खुशियों के जल उठे हर सू|५|

तख़्त - तहज़ीब - ताल और तक़दीर|
वो ही क़िस्से, वो ही धडे हर सू|६|

एक 'सू' मौत, दूसरी जीवन| *
काश पैगाम जा सके हर सू|७|

मुश्किलें हैं तो रास्ते भी हैं|
पर्व आया है, तो मने हर सू|८|

ज़ख्म-एहसास-दर्द-बेचैनी|
दिल के वो ही मुआमले हर सू|९|

* अरबी में 'सू' का एक अर्थ पानी भी होता है, और तुर्की में 'सू' का अर्थ 'शराब' होता है|

===============================

बहरे खफ़ीफ मुसद्दस मखबून
फ़ाएलातुन मुफ़ाएलुन फ़ालुन
२१२२ १२१२ २२

4 November 2011

प्रिय छंद सुनिए प्रेम से , हम ने कहे हैं प्रेम से

सभी साहित्य रसिकों का सादर अभिवादन


राजेन्द्र भाई स्वर्णकार जी के ब्लॉग पर घुमक्कड़ी करने वाले साथियों को पता है कि वो दिल लगा कर न सिर्फ लिखते हैं बल्कि उसे सजाने में भी जी-जान से मेहनत भी करते हैं। मेरी प्रबल इच्छा थी कि दिवाली के पहले या कि फिर बाद की पोस्ट में उन के छंद आयें, परंतु राजेन्द्र भाई यही कहते रहे कि पहले मैं स्वयं तो संतुष्ट हो जाऊँ। और देखिये जब कवि स्वयं संतुष्ट होता है तब कैसा काम आता है :-

2 November 2011

हर पल कसौटी तुल्य था, पर, पर्व से कमतर न था

सभी साहित्य रसिकों का सादर अभिवादन


धर्मेन्द्र भाई के अद्भुत छन्द पढे हमने पिछली पोस्ट में। परंतु इतने सुंदर छंदों पर इतने कम कमेंट्स!!!!!!!!!! खैर, हमें तो अपना काम ज़ारी रखना है। आइये आज पढ़ते आ. आशा दीदी के अनोखे छन्द। कल्पना और शब्दकारी का एक और अनोखा संगम।

1 November 2011

हमें उम्र भर मम्मी पापा के सँग में ही रहना है - 30 मात्रा वाले 6 प्रकार के छंद


प्यारी प्यारी मम्मी जब भी अपनी धुन में आती थी
गोदी में ले कर के हमको ट्विंकल ट्विंकल गाती थी
गोल गोल रसगुल्ले जैसे गालों को सहलाती थी
पकड़ हमारी नक्को रानी हँसती और हँसाती थी

पापा घर में कम रहते थे ऑफिस भी तो जाते थे
चोर नज़र से हमें देख कर मंद मंद मुस्काते थे 
खूब मज़े करवाने हमको पिकनिक पर ले जाते थे  
दोस्त समझ कर दुनियादारी की बातें समझाते थे

नई पुरानी पोस्ट्स ढूँढें यहाँ पर

काव्य गुरु
प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी

काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
जन्म ११ मई १९३१
हरि शरण गमन १४ मार्च २००५

My Bread and Butter

यहाँ प्रकाशित सभी सामग्री के सभी अधिकार / दायित्व तत्सम्बन्धित लेखकाधीन हैं| अव्यावसायिक प्रयोग के लिए स-सन्दर्भ लेखक के नाम का उल्लेख अवश्य करें| व्यावसायिक प्रयोग के लिए पूर्व लिखित अनुमति आवश्यक है|

साहित्यम पर अधिकान्शत: छवियाँ साभार गूगल से ली जाती हैं। अच्छा-साहित्य अधिकतम व्यक्तियों तक पहुँचाने के प्रयास के अन्तर्गत विविध सामग्रियाँ पुस्तकों, अनतर्जाल या अन्य व्यक्तियों / माध्यमों से सङ्ग्रहित की जाती हैं। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री पर यदि किसी को किसी भी तरह की आपत्ति हो तो अपनी मंशा विधिवत सम्पादक तक पहुँचाने की कृपा करें। हमारा ध्येय या मन्तव्य किसी को नुकसान पहुँचाना नहीं है।